पुतिन ने अपना सबसे खतरनाक ब्रह्मास्त्र दिया भारत को! हिंदुस्तान अब बनकर रहेगा विश्वशक्ति!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच बीते 15 अक्तूबर को गोवा में ब्रिक्स सम्मेलन के इतर हुई मुलाकात के दौरान हुआ था। हालांकि वह बातचीत के बाद की गई कई घोषणाओं का हिस्सा नहीं था। रक्षा मंत्रालय और नौसेना ने इस मुद्दे पर कोई सूचना मुहैया नहीं कराई क्योंकि यह प्रधानमंत्री कार्यालय के सीधा दायरे में आने वाला एक रणनीतिक मुद्दा था।

subscribe us on Hawkfeed.com

रूसी दैनिक ‘वेदुमोस्ती’ के स्तंभकार एलेक्सी निकोलस्की ने लिखा, ‘रूसी रक्षा उद्योग के एक सूत्र के मुताबिक रूसी नौसेना की ओर से भारत को बहुउद्देश्यीय परियोजना 971 एटमी पनडुब्बी देने के लीज पर गोवा में दस्तखत हुआ जिस पर बातचीत लंबे समय से चल रही थी।’ अकुला-दो श्रेणी की पनडुब्बी के वर्ष 2020..2021 में भारतीय जलक्षेत्र में आने की उम्मीद है।

भारतीय नौसेना में एक अकुला दो श्रेणी की एटमी पनडुब्बी ‘आईएनएस चक्र’ (जिसे पहले 152 नेरपा के तौर पर जाना जाता था) पहले से काम कर रही है। इसे रूस ने 10 साल की लीज पर दिया था और इसे चार अप्रैल 2012 को सेवा में शामिल किया गया था। भारत दूसरी एटमी पनडुब्बी लीज पर लेना चाह रहा था। भारतीय रक्षा सूत्रों ने बताया कि रूस ने एटमी पनडुब्बी की लीज को चार स्टील्थ पोतों के समझौते से जोड़ दिया था।

Source: http://www.nayaindia.com/

SHARE