अद्भुत फैसला: असम की बीजेपी सरकार ने राज्य के सभी स्कूलों में संस्कृत को किया अनिवार्य

sanskrit mandatory asaam tweet

असम सरकार ने मंगलवार रात कैबिनेट मीटिंग में फैसला किया कि राज्य के सभी स्कूलों में 8वीं क्लास तक संस्कृत को अनिवार्य किया जाएगा। सरकार के इस फैसले से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और उससे जुड़े संगठन काफी खुश हैं। संघ चाहता है कि असम की तरह ही दूसरे राज्य भी स्कूलों में संस्कृत को अनिवार्य करें। संघ से जुड़े स्कूलों में पहले से ही संस्कृत पढ़ाई जाती है।

संघ के एक प्रचारक ने कहा कि संघ का नॉर्थ ईस्ट में काफी फोकस है और हमारे कई संगठन वहां अच्छा काम कर रहे हैं। संस्कृत पढ़ाना अनिवार्य करना संघ का अजेंडा रहा है। केंद्र में मोदी सरकार और उसकी एचआरडी मिनिस्ट्री भी कई मौकों पर संस्कृत के महत्व की बात कर चुकी है। असम में पहली बार बीजेपी की सरकार बनी है। असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने भी इसकी घोषणा ट्वीट पर की, उन्होंने लिखा, ‘कैबिनेट ने फैसला लिया है सभी स्कूल 8 वीं क्लास तक संस्कृत को अनिवार्य भाषा के तौर पर पढ़ाएंगे।

संघ के अखिल भारतीय सह-प्रचार प्रमुख जे. नंदकुमार ने कहा कि भारत को समझने के लिए संस्कृत की समझ बहुत जरूरी है। यह भारत की भाषा है और सबसे वैज्ञानिक भाषा है। उन्होंने कहा कि इंग्लैंड में अंग्रेजी और फ्रांस में फ्रेंच पढ़ाने को लेकर कोई विवाद नहीं है तो भारत में संस्कृत पढ़ाने को लेकर कोई विवाद नहीं होना चाहिए।

gurukul-bannerसंघ से जुड़े संगठन शिक्षा बचाओ आंदोलन समिति के अतुल कोठारी ने कहा कि असम सरकार ने पॉजिटिव कदम उठाया है और दूसरे राज्यों को भी इसे फॉलो करना चाहिए। उन्होंने कहा कि इंग्लैंड का एक इंटरनैशल स्कूल छठी कक्षा तक संस्कृत पढ़ाता है। जब दूसरे देशों के स्कूल संस्कृत अनिवार्य कर सकते हैं तो भारत के स्कूल क्यों नहीं। उन्होंने कहा कि अब नासा भी संस्कृत पर काम कर रहा है। कोठारी ने कहा कि भारत की सभी भाषाएं संस्कृत से ही निकली हैं और अगर बच्चों को संस्कृत पढ़ाई जाएगी तो दूसरी भाषाओं के लिए भी उनका बेस मजबूत होगा। उन्होंने कहा कि संस्कृत के ग्रंथों में अपार ज्ञान है और संस्कृत की जानकारी प्राप्त कर ही इन ग्रंथों का ज्ञान हासिल किया जा सकता है।

नोट- इस खुशखबरी को सिर्फ खुद तक न रखे औरों को भी शेयर करके सूचना दें. धन्यवाद

source- http://navbharattimes.indiatimes.com/education/education-news/in-assam-students-to-read-sanskrit-till-8th-as-a-compulsory-subject/articleshow/57412826.cms

SHARE