देखिये विडियो: अनुपम खेर ने हज़ारों की भीड़ के सामने सुनाई अफजल गैंग को गालियाँ. देश में मची खलबली

anupan

लोकतंत्र में सबको बोलने की आजादी है, विशेष तौरपर भारत में. यहां तो फ्रीडम ऑफ स्पीच के नाम पर अफजल प्रेमी गैंग जैसे देश विरोधी भी नारे लगाते हैं और देश के टुकड़े करने की बात करते हैं. फ्रीडम ऑफ स्पीच जरुरी तो है लेकिन किस हद तक? यह भी एक बड़ा सवाल है। कुछ लोग तो फ्रीडम ऑफ स्पीच के नाम पर देश के प्रधानमंत्री तक को गाली देते हैं और कोई कुछ नहीं बोलता. बरहलाल जयपुर में आयोजित साहित्य समारोह में अनुपम खेर ने ऐसा जवाब दिया कि सबकी बोलती बंद हो गयी आपको बता दे की जेएनयू में जब कन्हैय्या ने देशद्रोही के नारे लगाये तो कुछ लोग उसके समर्थन में आए तो वही कुछ लोग विरोध में आये. अब इसे भी फ्रीडम ऑफ स्पीच कहा गया.

इसके बाद मामला आया डीयू में अफजल प्रेमी गैंग कन्हैया कुमार के सहयोगी खालिद और शाहिला रहील की पिटाई के बाद शहीद कि बेटी गुरमेहर द्वारा एबीवीपी के विरोध का, इसे भी फ्रीडम ऑफ स्पीच कहा गया. अब सवाल यह उठता है कि क्या हम फ्रीडम ऑफ स्पीच के नाम पर कुछ भी बोलते रहेंगे या दुसरों को भी बोलने देंगे। यह एक ऐसा मुद्दा बनता जा रहा है जिस पर शायद अब गंभीर कदम उठाना जरुरी हो गया है।एबीवीपी का विरोध कर रही गुरमेहर कौर पर अनुपम खेर ने इशारों में कहा कि असहिष्णु गैंग वापस आ गया है, चेहरे वहीं हैं बस उनके नारे बदल गए हैं। फिल्म अभिनेता अनुपम खेर ने ट्वीट किया, “असहिष्णु गैंग फिर से वापस आ गया है। चेहरे सारे वही हैं, नारे बदल दिए गए हैं।”अगले पेज पर देखिये अनुपम खैर ko अफज़ल गंग की धज्जियाँ उड़ाते हुए.

अगले पेज पर Video देखिये: अनुपम खेर ने हज़ारों की भीड़ के सामने सुनाई अफजल गैंग को गालियाँ. देश में मची खलबली

1
2
SHARE